Ads Area

इजहार वाली शायरी हिन्दी में

Izhaar karne se pehle inkaar suna hain....

Jab bhi kurbani ki baari aayi 

kambkhat kismat ne muze hi chuna hain....


Isaq ka izhaar na karne wale log 

kayar hote hain...

Aur iss duniya main jinki mohabbat adhuri reh jati hain....

Wahi log shayar hote hain...


तेरी खबर रखना भी जरुरी है।

और नज़र रखना भी तो जरूरी है।।

गर न हो इक पल दीदार मुझे तेरा।

तो लगता है कि अब मरना जरुरी है।।


तुम्हारी आँख के आँसू 💦हमारी आँख से निकले 💦तुम्हे फिर भी शिकायत है मोहब्बत हम नहीं करते❣️


" नज़र को नज़र की खबर ना लगे,

कोई अच्छा भी इस कदर ना लगे,

आपको देखा है बस उस नज़र से,

जिस नज़र से आपको नज़र ना लगे! "


" कहा से लाऊं वो लफ्ज़ जो तुझे मेरा करदे,।।

इस जहां को तो बहाना चाहिए जुदा करने का,।। "

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

Ads Area