Ads Area

जिंदगी वाली शायरी हिन्दी में


ज़िंदगी का सफर।
मानो तो मौज है वर्ना 
समस्या तो रोज है।

वॄद्धाश्रम में माता पिता को 
छोड़ने आऐ हो ?
ध्यान रखना आश्रम वाले 
आपके लिए भी दरवाजे खुले रखेंगे⚘

🌹आग तो हम भी लगा दें दिलों में...
       अपनी शायरी से...🌹
   🌹पर डरते हैं, किसी को ...
     हमसे इश्क़ न हो जाए...🌹

हर सक्श की उदासी का मसला इश्क़ नहीं होता 
जिन्दगी और परिवार की कुछ उलझने भी 
इंसान को उदास होने पर मजबुर कर देती हैं |

To suno bhai Dekh ke hume vo sir jhukate hai,
bula ke mehfil me nazare churate hai ,
Nafrat ho gai he humse to bhi koi bat nahi ,
Par gairon se mil ke dil♥️kyo jalate hai.

"Ajeeb zindagi hain meri...
Pyaar mila farebi...
Dost mile matlabi...
Abhi khuda ke alwa koi apna nahi sab ke sab hain ajnabi❤️"

❛खामोशी से बनाते रहो पहचान अपनी,
हवाएँ ख़ुद गुनगुनाएगी नाम तुम्हारा।❜❣️

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

Ads Area