Ads Area

दर्द वाला शायरी हिन्दी में

 


फरेबी भी हूँ, जिद्दी भी और पत्थर दिल भी, मासूमियत खो दी है मैंने लोगों पर विश्वास करते-करते

" कभी सुबह उदास थी तो कभी शाम उदास थी कफन में लिपटी हुई मेरी लाश थी ए दुनिया वालों मुझे वही दफनाना जहां हमारी और उनकी पहली मुलाकात थी " 

राहत और चाहत में.. 
बस फर्क सिर्फ इतना- सा है.. 
❤👉 राहत बस आपसे हैं👈❤
❤👉 और चाहत सिर्फ आपकी👈❤

Pyar me bade kasam kha gai wo 
Tanhai me rahna sikha gai wo 
Kai baar kiya aitbaar maine 
Mere aitbaar ko har bar bhula gai wo 
Rm writers

Teri👸Aankho👁️Ke Jadoo Se
Tu👸Khud Nahi 🙅Hai Waqif,
Yeh☝️ Use Bhi Jeena 😍Sikha Deti Hain
Jise 👉Marne Ka Shauk😎 Ho.

😘तुम्हारी चाहत तुम्हारे सपनो की हिफाज़त की है,
तुम्हारी मासूम निगाहों की कसम,
दिल तोह दिल,
मेरी रूह ने भी तुमसे मोहब्बत की है |😘

"Dilon Say Khelna Ka Hunar Hamain Aata Nahin,
Isi Liyay Ishq Ki Baazi Hum Haar Gayai,
Meri Zindagi Se Shayad Unhe Bohot Pyar Tha,
IsiLiye Mujhe Zinda Hi Maar Gayai…. 😒😒" 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

Ads Area